Labels

Followers

Saturday, 20 November, 2010

उदयनाचार्य के गॉव से


यह कविता जून 2007 को होने वाले मेरे भतीजे के उपनयन संस्‍कार के निमंत्रण पत्र में छपी थी ।कविता छवि (फोटो) के रूप में प्रस्‍तुत है

1 comment:

  1. हिन्‍दी कविता की जाति में एक अच्‍छी कविता । इस कविता का मूल गोत्र खोजना कठिन ।

    ReplyDelete